Disclaimer : This website is for informative purpose only and we do not claim this to be an official government website. We try our best to update you frequently regarding the PMAY Scheme. However for latest info you can also visit : pmaymis.gov.in

Indira Mahila Shakti Yojana

Priyadarshini Indira Gandhi Mahila Shakti योजना

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) जी ने सरकार की पहली जन्मदिवस पर महिला सशक्तीकरण (Women empowerment) के लिये एक बड़ा फैसला लिया है।

सरकार ने महिलाओं के आत्मविश्वास को मजबूत बनाने के लिए , उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के liye और आर्थिक सहायता के लिए इस योजना की गड़ना की है। इस योजना ko 1000 करोड़ की इंदिरा महिला शक्ति योजना (Indira Mahila Shakti Yojana) के रूप में निर्माण किया है।

Budget Speech क्या  है  ?

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी ने अपने बजट भाषण (Budget Speech ) में इस योजना के तहत हर साल 200 करोड़ रुपए खर्च करने की बात कही है और अगर ज़रूरत पड़ी तो बजट बढ़ाया जायेगा।

श्री अशोक गहलोत जी ने बुधवार को जयपुर में इसका शुभारम्भ किया था ।यह आयोजन दुर्गापुरा में कृषि अनुसंधान केंद्र में हुआ था। यह सम्मलेन महिला सशक्तिकरण इंदिरा महिला शक्ति योजना के नाम आयोजित किया गया, जिसका मुख्या उद्देश्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है।

इंदिरा गाँधी महिला शक्ति फण्ड की शुरुआत की है जिसमे 1000 राशि बनाई गयी है जिसके कारण महिलाओं को अपना खुद का व्यापार शुरू करने के लिए 1 करोड़ रूपए तक का लोन देने में मदद मिलेगी और जिससे वो आत्मनिर्भर बनेगी CM ने अपने भाषण में बताया की राज्य सरकार महिलाओं के लिए हर संभव कदम उठाएगी जिससे उन्हें प्रोत्साहन मिले और उनकी आर्थिक स्तिथि में बदलाव आये।

इंदिरा गाँधी महिला शक्ति फण्ड व्यवस्थाएं

सरकार ने एक साल की 200 करोड़ रूपए की व्यवस्था की है और पांच साल के लिए 1000 CRORE.
यह व्यवस्था महिलाओं की अर्थ व्यवस्था सुधारने के लिए की है जिससे उनका स्तर हर क्षेत्र में बढे उनका आत्ममनोबल बढे
CM ने इवेंट के दौरान उपस्तिथ महिलाओं को और उपस्तिथ पुरुषो को प्रोत्साहित किया की घूंघट न किया जाए और न ही करवाया जाए क्योकि घूंघट से पुरुषों की प्राथमिक सत्ता का आभास होता है।उन्होंने उदाहरण के तौर पे समझाया की की पहले महिलाओं के सरपंच पति कैसे होते थे जो शर्ते तय करते थे लेकिन समय अब बदल रहा है महिलाएं आत्मनिर्भर हो गयी है।

महिला एवं बल विकास डिपार्टमेंट योजनाएं

महिला एवं बाल  विकास डिपार्टमेंट ने इंदिरा महिला योजना के तहत महिलाओं के सशक्तिकरण पांच स्कीम्स बताई है उन्होंने कहा 5000 महिला स्वयं सहायता समूह बनाया है जिससे 50 ,000 महिलाएं जुड़ेगी जिनको फण्ड से लाभ मिलेगा।

इंदिरा महिला शक्ति योजनाएं  :-
इंदिरा महिला शक्ति प्रशिक्षण और कौशल संवर्धन योजना के तहत 75000 महिलाओं और लड़कियों को फ्री कंप्यूटर ट्रेनिंग दी जाएगी।
इंदिरा महिला शक्ति लेखा प्रशिक्षण योजना के तहत 5000 महिलाओं को एकाउंटिंग के लिए ट्रैन किया जायेगा।
उन्होंने बताया की इंदिरा महिला शक्ति शिक्षा सेतु योजना के अंदर जिन महिलाओं ने पढ़ाई छोड़ दी है य शिक्षा से वंचित है उन्हें राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल से फीस पर मुआवज़ा मिलेगा जिससे 50000 महिलाओं को फायदा होगा।
सबसे पहली महिला प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने 17 वर्ष तक लगातार काम किया जिससे महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ा और उनके सोचने का नजरिया भी बढ़ा और उसी के बाद महिलाओं को समाज में सभी अधिकार और सम्मान भी मिला पाकिस्तान को दो भागो में विभाजित किया और पंजाब को खालिस्तान नहीं बनाया साथ ही पंजाब में आंतकवादियों को भगाया।

महिला सम्मान

भारत देश में आज भी महिलाएं सम्मान के लिए तरसती है। उन्हें  पूर्ण रूप से सम्मान नहीं मिलता उनपर अत्याचार होता आया है ,बहुत सी जगहों पर महिलाओं का शोषण होता है, उन्हें सामान्य अधिकार नहीं मिलता।

राजीव  गाँधी  सविधान  महिला  सशक्तिकरण  संशोधन

राजीव गाँधी ने सबसे पहले 74 सविधान के तहत संशोधन जारी किये जिसमे उन्होंने महिलाओं के लिए बहुत से नए कदम उठाये थे, जिससे राज्य में सभी महिलाओं को पुरुष के सामान अधिकार मिले और आज देश भर में महिलाएं अपने पैरो पर खड़ी हैं जैसे कुछ सरपंच बनी हैं कोई पंच और कुछ सभापति भी बनी है।

घूँघट  प्रथा

मुख्यमंत्री जी ने कहा की राज्य में पर्दा हटाने की ज़रूरत हैं।
आज भी कई राज्यों में घूँघट प्रथा है जैसे राजस्थान लेकिन गुजरात और महाराष्ट्र में यह प्रथा नहीं है।
इस योजना के दौरान राज्य की घूँघट प्रथा कफ हद तक कम हो जाएगी।

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *