जल जीवन हरियाली योजना बिहार

Jal Jeevan Hariyali Yojana Bihar | [JJHY]

Jal Jivan Hariyali Mission : बिहार के मुख्य मंत्री माननीय नीतीश कुमार ने मंगलवार को कहा कि धरती पर जल और हरियाली के बिना जीवन संभव नहीं हो सकता । इसलिए पर्यावरण को संरक्षित करने और प्रदूषण को दूर करने के लिए नए उपाय करने चाहिए । इसी बात को ध्यान में रखते हुए उन्होंने बिहार के चंपारण गाँव से जल जीवन हरियाली योजना की शुरुआत की और Jal Jivan Hariyali Logo का भी उद्घाटन किया । । इस योजना की vacancy के बारे में जानने के लिए आप Jal Jeevan Hariyali Bih Nic in की आधिकारिक वेबसाईट पर जाकर भी देख सकते है ।

बदलते हुए मौसम को ध्यान में रखते है पर्यावरण संबंधी काम किए जाने की बात की गई । आने वाले 3 सालों में बिहार सरकार ने इस योजना पर लगभग चौबीस हजार पाँच सौ करोड़ रुपए खर्च होने का प्रवधान रखा गया । Jal Jeevan Hariyali Yojana Kya Hai इस बाए में विस्तार से जानते है ।

Bihar Jal-Jeevan Hariyali Abhiyan 2020:

बिहार सरकार द्वारा चलाई जाने वाली Water-Life Greenery Campaign 2020 In Bihar केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही “प्रधानमंत्री जल जीवन अभियान” की तरह काम करेगी । जिस योजना के सुचारु रूप से कार्यान्वयन के लिए Union Ministry ने जल शक्ति मंत्रालय (Water Power Ministry) का का गठन भी किया है जो की इस स्कीम के लिए वित्तीय लेन-देन का ध्यान भी रखेगा । मुख्य मंत्री जी ने कहा की पिछले साल लगभग 300 गाँव सूखे की चपेट में आए और उनका जल -स्तर सामान्य से कई नीचे तक चला गया । पिछले एक दशक से राज्य में इस प्रकार की समस्या बढ़ती जा रही है और इस कारण बीमारियाँ भी फैलती है । जिस करण कई लोग इसका शिकार हो जाते है ।

इसलिए इस दिशा में सही समय रहते एक उचित कदम उठाना बहुत आवश्यक है । अन्यथा आने वाले समय में पूरे राज्य को भयंकर जल संकट का सामना करना पड़ेगा । इस अभियान के चलते ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों में वृक्षारोपण किया जाएगा और तालाबों , कुओं की मरम्मत भी की जाएगी ।

इस अभियान पर होने वाला खर्च (Expenses)

  • 2019-20 – 6 हजार करोड़
  • 2020-21 – 10 हजार करोड़
  • 2021-22 – 8 हजार करोड़

Jal Jeevan Hariyali Kya Hai

जल जीवन हरियाली अभियान का मुख्य उद्देश्य हर साल राज्य में बढ़ते सूखे की समस्या से लोगों को छुटकारा दिलाना है । राजस्व और भूमि सुधार विभाग –Revenue & Land Reforms Dept प्रांत के सभी तालाबों , कुओं और पोखरों का का निरीक्षण ड्रोन कैमरों की मदद से करेगा । जल-जीवन हरियाली योजना के लिए सरकार ने काम शुरू कर दिया है । इस Campaign के तहत पाँच महत्वपूर्ण पहलुओं को ध्यान में रखते हुए काम किया जाएगा ।

  1. तालाबों , पोखरों , नहरों की की देख रेख और मरम्मत
  2. आहर-पाइन की उड़ाही
  3. अधिक संख्या में पेड़-पौधे लगाना,
  4. बारिश के पानी का संग्रहण (Rain Water Harvesting)
  5. जहां सूखा पड़ता है उन क्षेत्रों में नहरों के माध्यम से पानी पहुंचना ।

Jal Jeevan Hariyali Guidelines | Features

बिहार में होने वाले जल-जीवन हरियाली कैंपेन के तहत महत्वपूर्ण निर्देशों को ध्यान में रखते हुए काम किया जाएगा । जिनमे से कुछ खास बिन्दु इस प्रकार है :-

  • योजना पर मिशन के रूप में काम किया जाएगा । जिसके लिए राज्य के प्रत्येक नागरिक हो अपना योगदान देना होगा ।
  • राज्य के हर शहर और गाँव को सैटे लाइट मैपिंग से जोड़ा जाएगा और पारंपरिक जल स्त्रोतों पर नजर रखी जाएगी ।
  • किसी भी जिले के अवैध कब्जे वाले तालाबों, आहर-पाइन और कुओं की पहचान कर उन्हे अतिक्रमण मुक्त कराया जाएगा ।
  • जगह – जगह पेड़ लगाए जाएंगे । सार्वजनिक और निजी स्थानों पर भी वृक्षारोपण किया जाएगा ।
  • किसानों को मौसम के अनुसार फसल उगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा । उचित फसल -चक्र के माध्यम से भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने में सहायता मिलेगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *